Biography of Bill Gates in Hindi 2020

Biography of Bill Gates in Hindi 2020

Biography of Bill Gates 

बिल गेट्स कौन है – 

बिल गेट्स वो इंसान जिसने की कंप्यूटर की दुनिया में क्रांति ला दी और उन्ही की बदौलत आज हम और आप अपने घर बैठे कंप्यूटर का उपयोग  कर पाते है | बिल गेट्स हर 1 मिनट में करीबन 15 लाख रुपया कमा लेते है | जहा आज की दुनिया कंप्यूटर की है , वही इसका आधार बिल गेट्स द्वारा ही संभव हो पाया |वह कहते है ना की  पूत के पांव पालने में ही नजर आ जाते हैं , वैसे ही बिल गेट्स ने ये झलकी उनके बचपन में ही दे दी थी | जब वह महज 15 साल के थे, तो उन्होंने traf -o -data नाम का सॉफ्टवेयर खुद से बना डाला | जिसका की काम ट्रैफिक लाइट्स के डाटा को संभालना होता था , और इसके बदले बिल गेट्स को उस समय 20000 डॉलर्स मिले |

बिल गेट्स का जन्म कब और कहा हुआ –

इस संसार में कई महान और गुनी व्यक्ति पैदा हुए , जोकि समाज के लिए कुछ बहुत ही बड़ा करके जाते है | उन्ही व्यक्तिओ में से एक बिल हेनरी गेट्स है | संसार के सबसे बड़े NGO के संस्थापक बिल गेट्स ही है |इसकी शुरुआत 28 अक्टूबर 1955 को अमेरिका के वाशिंगटन के एक सीएटल शहर से हुई | जहा की बिल गेट्स का जन्म हुआ |

बिल गेट्स के माता पिता का नाम – 

बिल गेट्स की माता का नाम -मैरी मैक्सवेल गेट्स है , जोकि एक बिज़नेस वीमेन रही है | वही उनके पिता का नाम – विलियम हेनरी गेट्स है , और वह एक बहुत प्रसिद्ध वकील रहे है |बिल गेट्स की एक बड़ी बहन और एक छोटी बहन है , जिनके नाम कुछ इस प्रकार है क्रिस्टिआने गेट्स और लिब्बी गेट्स है |

बिल गेट्स की स्कूलिंग  कहा के हुई – 

बिल गेट्स की स्कूलिंग लेकसाइड हाई स्कूल से हुई , जहा की बिल गेट्स ने इसके फाइनल एग्जाम में 1600 में से 1590 नंबर लाकर अपने माता- पिता का नाम रोशन कीया | यही वह समय था ,जब बिल गेट्स को कंप्यूटर से इतना जायदा लगाव हो गया की वह अपना अधिकतर समय कम्प्यूटर्स की किताब को देने लगे |

ऐसा नहीं था की बिल गेट्स के जीवन में कभी कठनाई नहीं आयी | उनके माता-पिता चाहते थे की बिल गेट्स एक बहुत बड़े वकील बने , पर गेट्स ने तो कुछ और ही ठाना था |  जब गेट्स लेकसाइड स्कूल में अपनी शिक्षा ले रहे थे तो उन्हें पॉल एलन नाम के एक व्यक्ति से अपनी दोस्ती बनाई | पॉल और बिल गेट्स दोनों के सौभव में जमीन-आसमान का अंतर था , जहा पॉल एलन बहुत शांत और शर्मीले सौभव के थे , वही बिल गेट्स इसके बिलकुल विपरीत थे | वह  बहुत चंचल सौभव के थे , पर दोनों में जो एक बात सामान थी वह थी दोनों को कम्प्यूटर्स में काफी रूचि थी , इसी के चलते दोनों बहुत ही अच्छे दोस्त थे | और आगे चलकर दोनों ने माइक्रोसॉफ्ट की नीव राखी |

Ratan Tata Biography (Click Here)

माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना कब हुई – 

अब बिल गेट्स और पॉल एलन अपनी खुदकी कंपनी स्टार्ट करने जा रहे थे , जिसका की नाम माइक्रोसॉफ्ट था , और वह दिन था 26 नवंबर, 1975 का | इस कंपनी का मकसद  ये था की ये आम लोगो तक कम्प्यूटर्स को पहुंचा सके और नए-नए कंप्यूटर सॉफ्टवेयर बनाकर लोगो की मदद कर सके | माइक्रोसॉफ्ट का नाम मिक्रोकम्प्युटर और सॉफ्टवेयर  से लिया गया था |

बिल गेट्स और उनकी माँ का अनोखा रिस्ता – 

source-facebook

बिल गेट्स की माँ शुरू से ही एक पॉजिटिव ऐटिटूड और काफी इंटेलीजेंट महिला थी | वह हमेशा  बिल गेट्स को सपोर्ट करती | यहाँ तक की जब बिल दुनिया के सबसे बड़े कॉलेज हार्वड यूनिवर्सिटी को छोड़ने का फैसला किया तो सभी उनको मना कर रहे थे , पर बिल गेट्स चाहते थे की वह अब अपनी कंपनी पे पुरे तरीके से ध्यान दे , इसी कारण बिल गेट्स कॉलेज को छोड़ना चाहते थे |इस फैसले के खिलाफ सभी थे केवल उनकी माँ को छोड़ कर , वह कहती की बिल आप जो भी करना चाहते हो वो कर सकते हो , ये आपका अपना फैसला है | बिल गेट्स ने जब अपनी कंपनी स्टार्ट की तो मार्किट में पहले से कई अन्य कम्पनिया थी, जिसमें की IBM उस वक़्त की सबसे बड़ी कंपनी थी , इसी को देखते बिल ने अपनी माँ से IBM के CEO से बात करने को कहा , उन्होंने अपनी माँ को बताया की , हम एक सॉफ्टवेयर कंपनी बनाने जा रहे है ,जहा की हम अन्य कंप्यूटर की कम्पनियो को सॉफ्टवेयर बनाके देंगे | पर बिल उस वक़्त महज 20 साल के थे , जिस वजह से बिल से  कोई भी सॉफ्टवेयर नहीं खरीदना चाहता था | पर उनकी माँ ने उनके लिए इसे भी आसान कर दिया , उन्होंने IBM के CEO से बात की और बिल को उनके सॉफ्टवेयर के बारे में बताया , उसके बाद बिल और IBM ने काफी सालो तक एक दूसरे का साथ निभाया |

बिल जब भी परेशानी में होते हो वह अपनी माँ के पास जाते , जहा उनकी माँ उनका काफी साथ देती | एक दिन बिल को फ़ोन आया की , बिल , आपकी माँ अब इस दुनिया में नहीं रही , उनको बीस्ट कैंसर होने की वजह से  उनकी मित्यु हो गयी है | इस बात को सुनते ही बिल सब कुछ छोड़ कर सीधे अपनी माँ के के पास जाने लगे ,

वह अमेरिका की सड़को पे काफी हाई स्पीड गाड़ी चलकर अपनी माँ के पास जल्द से जल्द पहुंचना चाहते थे | उनकी आँखों में आंसू  ही आंसू थे , क्युकी उनको उनकी माँ से बहुत ही ज्यादा प्यार था | इस स्थिति से उभरने में उनको काफी दिन लगे |

बिल गेट्स और उनकी डेट्स की कहनी – 

अमेरिका में ये सब काफी आम था , गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड  बनाना | बिल  गेट्स बताते  है की ,  जब वह डेट्स पे जाते तो वह सिर्फ एक ही सवाल पूछते की तुम्हारे एग्जाम में कितने मार्क्स आये , इसे सुनते ही उनके साथ बैठी लड़की वहा से भाग या निकल जाती , काफी हंसी वाली बात थी ये |बिल गेट्स एक बहुत ही इंटेलीजेंट लड़के थे , और उन्हें अपने ही जैसे पार्टनर  की जरूरत थी | शायद इसीलिए वह ये सवाल पहले ही पूछ लेते |

बिल गेट्स और उनके लॉयर बनने का फैसला –

बिल गेट्स की फॅमिली चाहती थी की ,बील एक  उम्दा लॉयर बने | और बिल भी इस और अपना कदम बढ़ाने लगे ,पर सही समय पर उन्होंने इस से पीछे हटने का फैसला कर लिया |यहाँ मैं  आप से ये कहना चाहता हु की आप जिस चीज में अच्छे हो ना उसी को अपना करियर बनाये | ना की फॅमिली, फ्रेंड्स या अन्य किसी के प्रेशर में आकर अपना करियर चुने |

पॉल एलन और बिल गेट्स के बीच हुई कई लड़ाइयाँ –

पॉल बिल से 2 साल सीनियर थे , जिस वजह से पॉल और उनकी सोच में काफी बार अंतर पैदा हो जाता , और उन दोनों के बीच लड़ाई हो जाती थी |एक बार तो पॉल ने बिल गेट्स को गुस्से में आकर लात तक मार दिया था , और एक बार उनको माइक्रोसॉफ्ट के ऑफिस से ही निकल दिया था | फिर भी कुछ दिनों बाद दोनों साथ आ जाते ,और अपने बिज़नेस को बढ़ने पर ध्यान देते |

बिल गेट्स और स्टीव जॉब्स के बीच हुई लड़ाई –

स्टीव जॉब्स को कौन नहीं जानता , वह एक  बहुत ही उम्दा किस्म के शख्स थे और उस से भी ज्यादा वह एक बहुत बड़े एंट्रेप्रेनुएर थे | एप्पल की सक्सेस का राज स्टीव जॉब्स ने आधारित किया था |एक बार स्टीव जॉब्स ने कहा की एप्पल और माइक्रोसॉफ्ट बिलकुल पति- पत्नी की तरह है , इस बात को कहने का  एक कारण ये भी था की , पहले एप्पल और माइक्रोसॉफ्ट की दोस्ती फिर लड़ाई और फिर से दोस्ती हो जाती थी ,इसी कारन स्टीव ने ये बात कही थी | एप्पल और माइक्रोसॉफ्ट दोनों ने एक दूसरे की काफी मदद की है |

माइक्रोसॉफ्ट का पहला ऑपरेटिंग सिस्टम कौन-सा था – 

माइक्रोसॉफ्ट कई सारे सॉफ्टवेयर बनती थी , इसी के चलते IMB कंपनी चाहती थी की माइक्रोसॉफ्ट हमारे लिए भी सॉफ्टवेयर बनाये | वही माइक्रोसॉफ्ट ने अपना पहला ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया जिसका की नाम MS-DOCS था | यही माइक्रोसॉफ्ट की सबसे पहली ऑपरेटिंग सिस्टम थी |

बिल गेट्स एक कठोर बॉस –

जी है , ये बात बिलकुल सही है की बिल गेट्स के बहुत ही कठोर बॉस या लीडर थे | क्युकी वह माइक्रोसॉफ्ट के लिए हमेशा 24 घंटे काम करते थे , और साथ ही वह दूसरे एम्प्लॉय से भी हमेशा काम करने के लिए कहते थे , जिस वजह से उनके एम्प्लॉय उनसे कभी खुश नहीं रहते थे | पर बिल गेट्स आपने काम से लोगो और अपने एम्प्लॉएंस को बहुत खुश कर देते थे | उनके कई एम्प्लॉय उनको खड़ूस लीडर भी कहते थे |

बिल गेट्स ने कैसे पुरे मार्किट को अपने कब्जे में किया –

बिल गेट्स ने पुरे बिज़नेस करे रहे कंपनी को देखा तो उन्हें पता चला की , कंप्यूटरस के दाम काफी ज्यादा है और उनको इस्तमाल करना हर किसी के बस की बात नहीं है | इसी को देखकर बिल गेट्स ने पुरे मार्किट में सस्ते और दमदार कंप्यूटर उतरे और फिर क्या था , जैसे ये कंप्यूटर मार्किट में आये अन्य कई कम्प्यूटर्स कंपनी इसके आगे ठीक ही नहीं पायी , और धीरे- धीरे इन्होने पुरे मार्किट पे अपना कब्ज़ा जमा लिया | आप इसे jio के एक उदहारण से समझ सकते हो |

बिल गेट्स और उनकी वाइफ –

काफी लड़कियों से उनके मार्क्स पूछने के बाद , अब बिल को उनकी पसंद की लड़की मिल गयी थी | जो की उनके ही ऑफिस में काम करती थी , जिनका की नाम मेलिंडा फ्रेंच था |बिल गेट्स और मेलिंडा ने 1 जनुअरी, 1994 शादी की , जब बिल गेट्स 38  साल के थे | उन दोनों के तीन बच्चे है जिनका की नाम कुछ इस प्रकार है – जेनिफर कथरीने(1996), रोरी जॉन (1999) और फोएबे अडेले(2002) है |

बिल गेट्स एक बहुत ही बड़े दानी –

बिल गेट्स ने साल 2006 में माइक्रोसॉफ्ट को छोड़ा और इंसानियत की और ध्यान देने का सोचा | बिल और उनकी वाइफ मेलिंडा ने एक NGO को खोला जहा की वह दुनिया के लिए बलाई का काम कर सके | अभी माइक्रोसॉफ्ट के CEO है भारतीय मूल के रहने वाले सत्य नडेला | बिल गेट्स के पास आज 100 अरब से ज्यादा की सम्पति है फिर भी बिल ने अपने बच्चो के लिए सिर्फ उसमे से 10 लाख डॉलर ही छोड़े है | उन्होंने अपने एक इंटरव्यू में कहा की ये पैसा लोगो के है और ये सारा पैसा लोगो को ही मिलना चाहिए | बिल गेट्स उन कुछ से शख्सियतो में से एक है जिन्हे भगवान् ने दुसरो की बलाई के लिए बनाया है |आपको हमारा ये पोस्ट कैसा लगा हमे जरूर बातये | आपका बहुत बहुत शुक्रिया इस पोस्ट को पढ़ने के लिए |

पढ़िए और भी कई अन्य पोस्ट –

Anupjha

hello everyone i'm Anup i start my new career as blogger in 2020 i hope that you'll like my blog post. i want to say that i'll try to my best to get more information about my posts. thanks

This Post Has 18 Comments

Leave a Reply