Coronavirus history in hindi by biokatha.com

Coronavirus history in hindi by biokatha.com

ऐसे पैदा हुआ कोरोना वायरस- Coronavirus History in hindi 

चीन के वुहान फिश मार्किट नाम से मसूर मार्किट में जहा दिसंबर के पहले हफ्ते से कुछ लोग अचानक  से बीमार होने लगे | तो लोगो  ने अपना टेस्ट कर वाया और उनके टेस्ट को वूहान के लैब में भेजा गया जहा डॉक्टर्स को पता चला इस नए वायरस के बारे में जब इस वायरस को वहा के डॉक्टर्स ने देखा तो उन्होंने पाया की इसके सिप्टोमस ज्यादातर चमगादर से मिल रहे है |

तो वहा के डॉक्टर्स ने लैब्स में करीबन 600 चमगादर रिसर्च करने के लिए  लैब में मंगवाये | तभी रिसर्च कर रहे कुछ साइंटिस्टो में से एक के ऊपर कुछ चांगहदारो ने हमला कर दिया जिस वजह से चमगादर का खून उस साइंटिस्ट में आ गया और वही से इस वायरस का फैलना शुरू हो गया |

जब से वूहान मार्किट जहा की चमगादर और भी कई जानवर के सूप मिलते थे वहा से और भी कई लोगो को इस वायरस पीड़ित पाया गया | चीन ने इस वक़्त तक इस वायरस के बारे में दुनिया को कुछ नहीं बताया | पर कुछ दिनों में इस वायरस का कहर चीन पे ऐसा टूटा की पूरी की पूरी दुनिया को अब ये पता लग गया |

फिर क्या चीन को भी ये बात मानिनी पड़ी | इस वायरस के बारे में सबसे पहले चीन के एक डॉक्टर, डॉक्टर ली को पता चला था | और वो इस वायरस के बारे में अपने साथी डॉक्टरों से बात करते रहते थे |

जिस वजह से दुनिया को इस वायरस का केंद्र पता चलने लगा फिर क्या था चीन  इस बात से बहुत नाराज हो गया | जिस वजह से उन्होंने डॉक्टर ली के इलाज को इतना महत्व नहीं दिया और डॉक्टर को अपनी जान गवानी पड़ीं |

आज सिर्फ चीन में ही नहीं बल्कि कोरोना वायरस पूरी दुनिया के लिए एक बहुत बड़ा सिरदर्द बन गया है | सारी दुनिया आज इस खतरनाक वायरस से अपने देश वासिओ को बचाने के लिए क्या कुछ नहीं कर रही है |

आज हर एक देश में जहा कई लाख लोग इस वायरस से पीड़ित है वही इंडिया में इस वायरस के  सबसे कम पीड़ित मरीज सामने आये है | पर धीरे-धीरे इन पीड़ित लोगो की संख्या अब बढ़ती जा रही है |

हमारी सरकार इस वायरस के प्रति हमे  वो हर सम्भव तरीके बता रही है जिससे की हम इस वायरस से बच कर रह सके और दुसरो को भी इस वायरस से बचा सके |

आज जहा कोरोना वायरस लोगो के मन में इतना डर  पैदा कर रहा है और हमारी सरकार हमे हर वो सम्भव तरीका बता रही है जिससे की हम इस वायरस से बच सके वही इस वायरस को लेके कई अफवाह भी फैल रही है | जिस वजह से सरकार ने सभी राज्यो  के लिए एक हेल्प लाइन

कोरोना के जुड़े 15 सबसे बड़े झूठ-

1. क्या हैंड ड्रायर से ख़त्म हो जाता है कोरोना का वायरस ?

तो उत्तर है नहीं, कही भी ये पुष्टि नहीं हुई है की हैंड ड्रायर से कोरोना का वायरस ख़त्म हो जाता है | अपने भीगे हाथो को सूखाने के लिए टिश्यू या गर्म एयर ड्रायर का इस्तमाल करे |

2. क्या अल्ट्रावायलेट लैंप कोरोना के  वायरस को मार देता है ?

तो उत्तर है नहीं , ये भी एक तरह से झूठ है की अल्ट्रवॉयलेट लैंप कोरोना के वायरस को मार देता है | इसे एक बड़ा खतरा ये भी है अगर ये सीधे स्किन के संपर्क में आया तो स्किन डैमेज होने का खतरा है |

3. क्या थर्मल स्कैनर से कोरोना से प्रभावित लोगो की पहचान हो सकती है ?

तो उत्तर है हां, थर्मल स्कैनर से उनलोगो की पहचान  हो सकती है जिन्हे कोरोना वायरस की वजह से बुखार आ रहा है |  लेकिन अगर किसी को कोरोना है पर बुखार नहीं आ रहा है तो थर्मल स्कैनर से इसकी पहचान नहीं हो सकती है | 

4. क्या पुरे शरीर पर अलकोहाल या फिर क्लोरीन छिड़कने से कोरोना के वायरस मर जाते है ?

तो उत्तर है नहीं, जिन्हे ये कोरोना वायरस हो चूका है उनके लिए सिर्फ अब डॉक्टर्स का सही इलाज चाहिए | और जिन्हे नहीं हुआ है वो अगर ये सब करते है तो उनके लिए भी इन सब का कोई फ़ायदा नहीं होगा और वो लोग अपनी बॉडी को ही ये सब करके डैमेज कर सकते है | आप इस का उपयोग अपने फर्स को सही रखने के लिए कर सकते हो वो भी सावधानी से इसका उपयोग करके |

5. क्या चीन से आने वाले किसी लेटर या फिर किसी पैकेज को रिसीव करना सुरक्षित है ?

तो उत्तर है हां, आप चीन ये आये अपने किसी पार्सल या लेटर को रिसीव कर सकते है इसकी वजह ये है की कोरोना वायरस किसी एक चीज पे बड़े लम्बे समय तक नहीं रह सकता है | पर हम आप से निवेदन करेंगे की अगर पार्सल या लेटर जरुरी नहीं हो तो इसे ना ही रिसीव करे | और रिसीव करना भी पड़े हो रिसीव करने के बाद अपने हाथो को अच्छे  से साफ़ करे |

6. क्या घर के पालतू जानवरो से भी कोरोना का वायरस फ़ैल सकता है ?

तो उत्तर है की इसके बारे में अभी साफ़ तौर पे कुछ भी कहना सही नहीं है | अगर आपके घर में कोई भी पालतू जानवर है तो उन्हें छूने के बाद अपने हाथो को काफी अच्छे से धोय ताकि आप कोरोना और कई अन्य वायरसो से भी बच सके |

7. क्या  निमोनिया का टिका नए कोरोना वायरस से हमे बचा सकता है ?

तो उत्तर है नहीं, क्युकी की ये ठीके सिर्फ नोमिनिया से ही आपको बचा सकते है | क्युकी कोरोना एक नए तरीके का वायरस है जिस वजह से इसपे कई देश के डॉक्टर्स रिसर्च कर रहे है और इसकी वैक्सीन बनाने में लगे हुए है |

8. क्या लगातार अपनी नाक को पोछते रहने से कोरोना के इन्फेक्शन से बचा जा सकता है ?

तो इसका उत्तर भी ना में है क्युकी इसकी पुष्टि कही भी नहीं हुई है की आप अपनी नाक पोछते रहने से इस खतनाक बीमारी से बच सकते हो | और तो और इसे करने से आप अपने गंदे हाथो में जो कीटाणु होंगे वो सरे के सरे आपके शरीर के अंदर आ जाते है | इसे करने से बचे |

9. क्या लहसुन कोरोना वायरस के इन्फेक्शन को रोक सकता है ?

तो उत्तर है क्युकी लहसुन में कीटाणो से लड़ने के गुण होते है  पर इस बात की पुष्टि कही नहीं हुई है की लहसुन से आप कोरोना से बच सकते हो |

10. क्या माउथवॉश के इस्तेमाल से कोरोना के इन्फेक्शन से बचा जा सकता है ?

तो इसका उत्तर भी ना में है क्युकी इसकी भी पुष्टि नहीं हुई है की माउथवॉश से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है | हलाकि  कुछ माउथवाश से कुछ किश्म के कीटाणु को कुछ देर के लिए मिटाया जा सकता है |

11. क्या तिल के तेल का इस्तेमाल करके कोरोना से बचा जा सकता है ?

उत्तर फिर  से ना में है क्युकी इसकी पुष्टि भी नहीं हुई है, हां कुछ ब्लीच और क्लोरीन बेस्ट केमिकल केअलावा ईथर,एथेनॉलम ,परसेटिक एसिड और च्लोरोफॉल का इस्तेमाल करके आप अपने घर के फर्स से इन कीटाणुओ  मिटा सकते है | लेकिन इसका  इस्तेमाल आप  अपनी बॉडी पे कतेहि ना करे  इसके चलते और भी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है | |

12. क्या कोरोना का वायरस सिर्फ ज्यादा उम्र के लोगो को ही प्रभावित कर रहा है ?

तो उत्तर है नहीं, ऐसा कोई जरूरी नहीं है की ये सिर्फ ज्यादा उम्र वालो को ही अपनी चपेट में ले रहा है बल्कि ऐसे कई केसेस है जहा ये बचो से लेकर युवाओ में भी मिला है | ये उनलोगो के लिए ज्यादा ख़तरनाक है जो की पहले से ही किसी बड़ी  बीमारी से जुज रहे हो | बाकि सभी देश मेडिकल डॉक्टर्स ने इस वायरस से सभी को बचकर रहने को कहा है |

13. क्या एंटीबायोटिक्स के जरिये कोरोना से बचाव  और  उसका इलाज  किया जा सकता है ?

इसका उत्तर भी ना में है क्युकी एंटीबीओटिस सिर्फ बैक्टीरिया को मार सकता है ना की कोरोना के वायरस को |  हलाकि  अगर आप  हॉस्पिटल में  है तो डॉक्टर्स आपको एंटीबायोटिक्स दे सकते है क्युकी वह आपको बैक्टीरिया से भी बचना पड़े |

14. क्या गाय के गोबर और गोमूत्र से कोरोना से बचाव किया जा सकता है ?

इसका उत्तर भी ना में है क्युकी आयुर्वेद के बड़े  से बड़े डॉक्टर्स भी इसका बात का समर्थन नहीं करते है की  गोबर और गोमूत्र से कोरोना से बचा  जा सकता है |

15. क्या ऐसी कोई दवाई है, जो कोरोना वायरस  से बचा सकती है ?

तो इसका उत्तर भी ना में ही है क्युकी अभी तक कोरोना के बचाने वाली कोई दवाई नहीं तैयार हुई है | अगर आपको कोई भी कहता है की ये दवाई से कोरोना का वायरस नहीं होता  है या इसे खाने या पीने के  बाद कोरोना मर जाता है तो वो इंसान या वो मैसेज आपको गुमराह कर रही है |

16. क्या गर्मी या  फिर ज्यादा टेम्परेचर में कोरोना का वायरस ख़त्म हो जाता है ?

तो इसका भी उत्तर भी नहीं है क्युकी इसकी पुष्टि किसी भी देश के डॉक्टर्स ने नहीं किया है ?

कोरोना वायरस का असली नाम अब covid-19 है जिसका की मतलब है –

Co का मतलब कोरोना

Vi का मतलब वायरस

D का मतलब डिजीज

और 19 इसलिए क्युकी ये साल 2019 में शुरू हुआ |

आप ऐसी किसी भी अफवाह का विश्वास ना करे | हमारे देश में इसके लिए हमारी गवर्नमेंट सभी राज्यो के लिए कोरोना के किसी भी सवाल के लिए अपना एक नंबर सभी राज्यो दिया है –

कोरोना वायरस का नाम कोरोना  कैसे पड़ा जाने –

दरअसल जब सूर्य को ग्रहण लगता है यानि सूर्य ग्रहण के  वक़्त जब पृथ्वी सूर्य को पूरी तरीके से ढक देती है तो गोले के रूप में सूर्य दिखना तो बंद हो जाता है पर सूर्य का अकार इतना बड़ा है की पृथ्वी उसे बस बीच में ही ढक पति है | इसे आप ऐसे भी समझ सकते हो की सूर्यमुखी फूल के बीचो बेच सिर्फ उसका काला सा हिस्सा बचता है | ठीक उसी तरह सूर्य ग्रहण में भी होता है  और इसकी को कोरोना कहते है | क्युकी इस वायरस की बनवट कोरोना जैसी  ही है और इसकी सतह पर पृथ्वी पे कोरोना की तरह ही प्रोटीन इंटेसिटी उगी हुई है,जो की हर दिशा में फैलती हुई महसूस होती है | इसी वजह से इसका नाम कोरोना पड़ा |

कोरोना वायरस के लक्षण –

अगर आपको सास लेने में तकलीफ हो रही हो तो ये एक लक्षण है की  आप को अब अपना चेक उप किसी डॉक्टर से करवाना पड़ेगा |

साथ ही साथ बुखार ,नाक का बहना,कफ, छाती में दर्द या सर में दर्द होना और गाला का सुखना, ये सरे लक्षण है कोरोना के |

कोरोना से बचने के लिए क्या करे-

जितना हो उतना घर में रहे | दुसरो से कम सम्पर्क बनाये | अपने फेस को बार-बार ना छूए |

1. अपने हाथ धोये हर 1 से 2 घंटो के बीच में वो भी 20 से 40 सेकंड के लिए |

2. कफ आये या खासी तो टिश्यू से या फिर अपने पर्सनल रूमाल का इस्तेमाल करे |

3. अपने चहरे को ज्यादा ना छुए |

4. दुसरो से अभी कुछ दिनों के लिए दुरी बनाये |

5. अगर आपको कमजोरी मेहसूस हो तो डॉक्टर के पास जाना चाहिए ||  

ये सारी जानकारी दुसरो को भी शेयर करे ताकि उन्हें भी इससे मदद मिले | आपका  बहुत बहुत धन्यवाद इस पोस्ट को पढ़ने के लिए |

Coronavirus history in hindi -आपको कैसी लगी हमे जरूर बताये

Anupjha

hello everyone i'm Anup i start my new career as blogger in 2020 i hope that you'll like my blog post. i want to say that i'll try to my best to get more information about my posts. thanks

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply