Swar Kokila Lata Mangeshkar Biography In Hindi 2020 | कई किस्से

Swar Kokila Lata Mangeshkar Biography In Hindi 2020 | कई किस्से

Lata Mangeshkar Biography In Hindi-

 

आठ दशकों से भी ज्यादा अपने मधुर आवाज से सभी लोगो को अपना प्रसंसक बना  रही  है स्वर कोकिला के नाम से विश्विख्यात लता मंगेशकर जी आज भारत की शान है | अपने मधुर स्वरों का जादू उन्होंने करोड़ो दिलो पर डाला है |

संगीत की दुनिया में उन्हें माता सरस्वती के रूप में भी जाना जाता है | अपनी आवाज से हर Generation को Inspire करने वाली लता जी को The Nightingale of Bollywood भी कहा जाता है साथ ही उन्हें भारत में दीदी के नाम से भी पुकारा जाता है |

वैसे तो भारत में कई महान सिंगर है पर जब बात लता जी की हो तो कोई भी उनके आगे छोटा ही हो जाता है | यहाँ तक कई महान सिंगर उन्हें महारानी कहकर बुलाते थे | कई संगीतकार संगीत को गाकर प्रसिद्ध होते है तो वही संगीत इस वजह से प्रसिद्ध है क्युकी वह लता जी जैसी महान संगीतकार के कंठ से निकलती है |

संगीत की दुनिया के इस महान स्वर कोकिला यानि की लता जी के जीवन के बारे में हर कोई जानना चाहता है और जाने भी क्यों न ? वो करोड़ो लोगो के लिए एक Inspiration रही है | तो चलिए जानते है लता जी के जीवन के पुरे सफर को आज पोस्ट में |अब  बिना देरी के शरू करते है Lata Mangeshkar Biography In Hindi को |

शुरआती जीवन और परिवार (Starting Life and Family)

एक बहुत ही अद्भुत गायिका स्वर कोकिला लता मंगेशकर जी  का जन्म 28 सितम्बर 1929 को इंदौर के एक मराठा परिवार में हुआ | उस जामने के एक साधारण परिवार में जन्मी लता जी अपने परिवार में जन्मी पहली पुत्री थी | वही लता जी के जन्मे के बाद उनकी तीन और बहने और एक छोटा भाई हुआ जिनके नाम कुछ प्रकार है आशा ,उषा , मीणा और उनका एक छोटा भाई हृदयनाथ |

लता जी जोकि भारत की महान गायिका है दरअशल संगीत उन्हें विराशत में मिली थी क्युकी उनके पिताजी श्री दीनानाथ मंगेशकर एक क्लासिकल संगीत गायक एवं थिएटर अभिनेता थे जिन्होंने ही लता जी को शुरआती  संगीत सिखाया और उसमें निपूर्ण बनाया |

वही लता जी की माताजी का नाम शेवंती मंगेशकर था जोकि लता जी के पिताजी की दूसरी पत्नी थी क्युकी उनकी पहली पत्नी का विवाह के कुछ समय बाद ही स्वर्गवास हो गया जिस वजह उन्होंने अपनी दूसरी शादी की |

लता जी की माताजी को  गायकी तो नहीं आती थी पर हां संगीत को अच्छे से समझ जरूर लेती थी एवं अपने घर की लक्ष्मी बनाकर पुरे घर का ध्यान वह  स्वाम ही  रखा करती थी |

लता जी का बचपन (Childhood of Lata Ji)

अगर उनके बचपन की बात करि जाए तो लता जी अपने बचपन में काफी शरारती हुआ करती थी | अपने घर में हमेशा उधम मचाय रखती थी यहाँ तक अगर उन्हें उनके मन की कोई चीज नहीं मिली तो पूरा घर सर पर उठा लेती थी |

एक बार उन्हें कोई चीज बहुत पसंद आयी तो उन्होंने उस चीज के लिए घर तक छोड़ने का फैसला कर लिया था जिसके बाद उन्होंने अपने कुछ कपडे उठए और घर से बाहर निकल गई और जोर जोर से चिल्ला चिल्ला कर ये बताने लगी की देखो में घर छोड़कर जा रही हूँ |

उनके घर के पास एक कुआ हुआ करता था जिस वजह से उनकी माताजी को लगता था की कही उनकी बेटी उस कुए में ना गिर जाया तो वह खुद ही लता जी को पकड़ कर वापिस घर ले आया करती थी जिसके बाद तो उन्हें खूब पिटाई लगती थी अपनी माताजी से |

शरारतपन के साथ साथ लता जी बचपन में काफी ज्यादा जिद्दी भी हुआ करती थी जिस वजह जब वह एक दिन स्कूल गई तो उनको मास्टर जी ने अपनाती कर दिया क्युकी वह स्कूल में अपनी छोटी बहन आशा को लेकर चली गई थी जिसके बाद उन्होंने कभी स्कूल का मुँह नहीं देखा और स्कूल जाना ही बंद कर दिया | स्कूल में जाकर मास्टर जी से ना पढ़कर वह अपने घर के एक नौकर से मराठी पढाई सीखा करती थी | तो ऐसा बचपन था लता जी का |

Sandeep Maheshwari Love Story(Click Here)

 

संगीत से कैसे जुडी लता जी ? (How Lataji Connected with Music?)

तो जैसे की संगीत और लता जी एक दूसरे के लिए ही बने है या आप ये भी कह सकते है की संगीत का अगर कोई सही पर्यावाची खोजे तो वह लताजी ही होंगी बेशक! पर शायद एक बात जो आपको यहाँ हैरान करे की जो लताजी आज ना केवल भारत की शान है बल्कि पूरी दुनिया उनके आगे अपना समान प्रकट करती है |

उस स्वर कोकिला लता जी को शुरआत में संगीत से कोई लगाव नहीं था बल्कि वह तो इस से दूर होना चाहती थी लेकिन जैसे जैसे कुछ समय बिता तो उन्हें अपने पिताजी का  तानपुरा पे रिआज़ करना काफी अच्छा लगने लगा वह भी चुप्पके से अपने पिताजी के साथ संगीत  रिआज़ किया करती थी |

ऐसे ही एक दिन जब उनके पिताजी अपने एक शिष्य को संगीत का रिआज़ करने के बोलकर बाहर गये ही थे की तभी लता जी वहा आई देखा की वह शिष्य गलत रिआज़ कर रहा है तो उन्होंने बताया की तुम गलत रिआज़ कर रहे हो मैं तुम्हे रिआज़ करके दिखती हूँ |

जब उन्होंने रिआज़ करके दिखाया को दिखाया की तभी उनके पिताजी वहा आ गये और उनके रिआज़ सुनकर बोल पड़े की संगीतकार तो हमारे घर में बैठा है और हम संगीत की शिक्षा दुसरो को दे रहे है |

उसके बाद से उन्होंने लता जी को संगीत सीखना शुरू कर दिया जिसके बाद लताजी अपने पिताजी के साथ उनके थिएटर में गाना गाया करती थी उनकी आवाज इतनी सुरीली थी की थिएटर में मौजूद सभी लोग उन्हें Once  More Lata ! Once  More Lata ! कहने लगती थी |

यहाँ एक और चीज जो शायद हैरान करे की लता जी असली नाम लता नहीं बल्कि हेमा था लेकिन वह अपने अपने पिताजी के साथ के थिएटर में गाना गाने लगी तो उनके माता-पिता ने उनका नाम हेमा से बदलकर लता रख दिया |

साथ ही साथ आपको ये भी बताते चले की लता जी के पिताजी पंडित दीनानाथ मंगेशकर का असली Sir Name हर्डीकर था लेकिन फिर उन्होंने अपना Sir Name बदल कर अपने गांव मंगेशी का Sir Name रख लिया Mangeshkar |

कैसे उनके पिताजी पहले से ही ये जानते थे की उनकी बेटी लता खूब नाम कमाएगी ?(How did her father already know that his daughter Lata would earn a lot of name?)

दरअशल लताजी के पिताजी पंडित दीनानाथ मंगेशकर एक संगीत शिक्षक के साथ साथ एक ज्योतिष्कार भी थे उन्होंने जब अपनी बेटी लता का ज्योतिष ज्ञान पढ़ा , तभी से वो ये समझ गए थी लता में कुछ अद्भुत बात जरूर है | साथ ही लता जी को भी कई बार ऐसे सपने आते थे जहा लता जी एक मंदिर के किनारे है लोग उनके पाँव छू रहे है | शायद प्रकति भी पहले से ये जान चुकी थी | तो जब उनके पिताजी ने ये देखा तो वह लता जी  को संगीत की शिक्षा के साथ साथ जीवन की भी शिक्षा देने लगे | जिन्हे लता जी कभी भी नहीं भूली |

संघर्ष और सफलता  (Struggle And Success)(Lata Mangeshkar Biography In Hindi)

संघर्ष एक ऐसा शब्द है जोकि जीवन को दूसरा सत्य है कोई भी इस संघर्ष से बच नहीं पाया है | यहाँ तक लताजी जैसी महान गायकी भी नहीं , जैसे जैसे लता बड़ी हो रही तो वैसे वैसे उनका संगीत के प्रति लगाव बढ़ता चला जा रहा था |

शुरआती संगीत अपने पिताजी से सिखने के बाद उन्होंने कई और गुरुओ से भी संगीत की शिक्षा ली ,सभी गुरुजन उन्हें देखते ही समझ जाते थे की ये एक दिन बड़ी गायिका जरूर बने गई |

लेकिन तभी कुछ ऐसा हुआ जो की किसी ने भी नहीं सोचा था ? हुआ कुछ यूँ की जब लताजी 13 साल की हुई तभी उनके पिताजी की मृत्यु हो गई जिसके बाद घर की सारी जिम्मेदारी उनके कंधे पर आ गई |

जो लता बचपन में इतनी शरारती हुआ करती थी वह अब अपने परिवार के पालन पोषण के लिए कभी फिल्मो में कोई काम लेती तो कभी बाल कलाकार की आवाज में गाना गा दिया करती थी | 

यहाँ तक उनके शुरआती गाने के बाद भी उन्हें सुनना चाहते थे लेकिन कुछ Music डायरेक्टर उन्हें काम सिर्फ इसीलिए नहीं देते थे क्युकी उनकी आवाज काफी हलकी थी | लता जी अपने हौसले को बंधे अपने परिवार को संभाले आगे बढ़ती रही |

और कहते नहीं है की भगवान् के घर देर है अंधेर नहीं वैसे ही लता जी के साथ भी हुआ लता जी उनका वो गाना मिला जिसने की उनको एक नई पहचान दिला दी और वह गाना साल 1949 के एक फिल्म महल का था गाने के बोल कुछ प्रकार थे आएगा आने वाला |

यही वो गाना था जिसने फिर लता को एक अलग पहचान दिलाई जिसके बाद से ही लता जी आज तक हमारे दिलो पर राज करती चली आयी है और हमेशा करती रहेंगी | 

कौन था लता जी का पहला प्यार ? (Who was first Love Of Lataji?)

वैसे तो स्वर कोकिला लताजी आजीवन कुआरी रही पर ऐसा ही नहीं है उनको कभी किसी से प्यार नहीं हुआ | दरअशल जब लताजी मात्र 5 साल की थी तो उन्होंने अपने पिताजी के साथ एक सिनेमा दिखा था |

जिसमें कुंदन लाल सहगल थे उन्हें वो सिनेमा और उस सिनेमा में सिघल की आवाज इतनी पसंद आई की उन्होंने अपने माता-पिता से कहा की वह शादी करेगी तो सिर्फ सहगल जे बस !

इस पर उनके पिताजी ने कहा की वो तो कभी बड़े है , तो लताजी ने कहा की तो क्या हुआ में भी तो बड़ी हो जाओगी |

लेकिन दुर्भाग्य से जब लता अपने कदमो पर कड़ी हुई तो उन्होंने अपने घर एक नया रेडियो लाया जिसे ऑन करते ही उसमें से सबसे पहली खबर ये मिली की सहगल साहब अब इस दुनिया में नहीं रहे इसे सुनते ही लताजी काफी दुखी हुई और उस नए रेडियो को अलगे ही दिन बाजार में बेच आई |

Shraddha Kapoor Love Story (Click here)

लता जी ने शादी क्यों नहीं की ? (Why did Lata ji not get married?)

दरअशल लताजी ने अपने जीवन में शादी इसीलिए भी नहीं की क्युकी उनके ऊपर जो परिवार की जिम्मेदारी थी उसी जिम्मेदारी को देख उनके दिमाग में शादी का ख्याल कभी नहीं आया |

हां , पर एक बार उन्हें प्रेम जरूर हुआ वो भी डूंगरपुर के राजा के बेटे राज सिंह से , दरअशल राज सिंह जोकि लताजी के छोटे भाई हृदयनाथ के दोस्त थे वह दोनों साथ मिलकर काफी क्रिकेट करते थे जिस वजह से उनका लताजी के घर आना जाना हो गया था |

वही दोनों जब पहली बार एक दूसरे से मिले तो उन्हें प्यार हो गया | लेकिन जैसे ही ये ख़राब राज सिंह के पिताजी को चली तो उन्होंने इस रिश्ते से साफ़ मना कर दिया और कहा की एक राज घराने की बहु वो आम सी दिखने वाली लड़की नहीं बन सकती |

जिसके बाद से ही राज सिंह के ऊपर काफी  दबाब देकर उन्हें लताजी से दूर किया गया | लताजी से दूर होने के बाद से ही कसम खाली की वह आजीवन शादी नहीं करेंगे | इस को लेकर फिर लताजी ने भी कभी शादी नहीं की |

क्यों दिलीप कुमार से गुस्सा हुई लता जी ? (Why Lata ji got angry with Dilip Kumar?)

तो ये किस्सा भी बड़ा ही गजब है ना केवल दिलीप कुमार जैसे बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार से जो उस वक़्त फिल्मी दुनिया के बहुत ही बड़े सितारे थे | दरअशल  लता जी को जब ये पता चला की उनका एक गाना दिपील कुमार जिनका की अलसी नाम यूसुफ़ खान था उनकी एक फिल्म में आने वाले है तो इस बात लता जी काफी खुश हुई |

पर जैसे आपको पता होगा की उन दिनों गानो के बोल काफी ज्यादा उर्दू में हुआ करते थे जिस वजह से फिर दिलीप कुमार को लगा की लता जी जोकि एक मराठी भाषा बोलती है वह कैसे उर्दू के इतने कठिन शब्द वाले गाने गए लेंगी |

इसी बाद का जब लता जी को पता लगा तो वह दिलीप  कुमार से नाराज हो गई और अपने एक संगीत गुरु के पास उनसे उर्दू के कठिन बोल भी सीखे | जिसकी वजह से लताजी आज दिलीप कुमार धन्यवाद देती है की उन्होंने ही मुझे उर्दू से बोल पर गाना गाने के लिए प्रेरित किया |

ऐसे ही बार वह रफ़ी साहब से गुस्सा हो गई थी और फिर करीबन 4 साल तक उनके साथ गाना नहीं गाय था | लेकिन लता जी से कौन ज्यादा देर तक नाराज रह सकता है ? सभी फिर बात में लता जी को महारानी कहकर उनसे गिल्ले शिकवे दूर कर लिया करते थे |

क्यों लता जी को जहर दिया जा रहा था ?(Why Lata ji was being poisoned?)(Lata Mangeshkar Biography In Hindi)

ये बात शायद आपको झूठ लगे लेकिन ये सच है की जब लताजी अपने गायिकी से सभी लोगो का दिल जीत रही थी तो उनके पीछे उनके खिलाफ एक गहरी शाजिश चल रही थी और इस बात पुष्टि लताजी के करीबी रही पद्मा सचदेवा ने अपनी किताब ” ऐसा कहा से लाऊ ” में की |

वैसे जब एक इंसान अपने जीवन में आगे बढ़ने लगता है तो उसके पीछे कई लोग पड़ जाते है | उन्ही कुछ लोगो में से एक उनके घर का बाबर्ची थी जोकि लता जी को साल 1962 में स्लो पोइशन दे रहा था  |

जिसका पता लगते ही वह बाबर्ची अलगे ही दिन वहा से भाग गया | जिस वजह से इस बात का खुलसा आज तक नहीं हो पाया |

हम सभी भारतवाशी भगवान् से यही प्राथना करते है की लताजी हमेशा खुश रहे उनके गाने हमेशा हमारे दिलो को छूते रहे |

कुछ बहुत ही जबरदस्त बाते लताजी के बारे में (Facts)(Lata Mangeshkar Biography In Hindi)

  • लता जी को उनके पिताजी बेटा कहकर और बाबा कहकर बुलाते थे |
  • लता जी को सचिन अपनी माताजी मानते है |
  • लता जी ने महज 13 साल की उम्र में पहली बार साल 1942 में आई मराठी फिल्म ‘पहली मंगलागौर’ में गाना गाया था ।
  • लता जी की फिल्मो में एंट्री 1947 में आई फिल्म आपकी सेवा से शुरू हुआ |
  • लता जी के पिताजी ये पहले से जानते थे की उनकी बेटी का विवाह नहीं होगा |
  • लता जी अभी तक 30 हजार से भी ज्यादा गाने गए है और वो 20 से अधिक भाषाओ में |
  • लता जी को साल 1969 में  पद्म भूषण और साल 2001 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया |
  • लता जी ने अपना आखिरी गाना साल 2011 में सतरंगी पैराशूट गाया था |
  • लता जी का गाना ऐ मेरे वतन के लोगो को सुनकर उस वक़्त के प्रधानमंत्री नेहरूजी रो पड़े थे |
  • लता जी ने फिल्मो में तो काम किया है लेकिन वह खुद कभी नहीं चाहती थी की वह फिल्मो में काम करे |
  • लता जी का केवल ही दिन स्कूल गई थी |
  • लता जी ने जब पहली बार स्टेज पर गाना गाया था तो इसके लिए उन्हें 25 रूपये मिले थे |
  • लता जी फिल्म इंडस्ट्री की वो पहली सख्सियत है जिसे ही भारत रत्न और बाबा साहब फाल्के पुरुष्कार  दोनों मिले है |
  • लता जी के नाम सबसे ज्यादा गाना गाने  का रिकॉर्ड  है |
  • लता जी को हवाई जहाज में सफर करने के बहुत डर लगता है |
  • लता जी और रफ़ी साहब का पहला गाना फिल्म शादी से पहले जोकि 1947 में बनी एक हिंदी फिल्म थी इस फिल्म में दोनों ने एक साथ पहली बार गाना गया था |
  • लता जी ना केवल गायिका है बल्कि वह एक कंपोजर और प्रोडूसर भी है |

तो चलिए जल्दी से जान लेते है Lata Mangeshkarके बारे में (Short Biography)(Lata Mangeshkar Biography In Hindi)

  • Full Name\Real Name- Hema Mangeshkar
  • Nickname- Swar Kokila, The Nightingale of Bollywood
  • Profession- Singer
  • Father- Deenanath Mangeshkar
  • Mother- Shevanti Mangeshkar
  • Brother- Hridynath Mangeshkar
  • Age – 91(At 2020)
  • Birthplace- Indore,India
  • Hometown- Mumbai,India
  • Present Address- Mumbai Andheri Area
  • Nationality- Indian
  • Zodiac – Libra
  • Weight- 70 Kg
  • Height- 5Feet 1Inch
  • Date of Birth- 28 September, 1929(Saturday)
  • School- School Dropout
  • Qualification- She Attend the School Class only a single day.(But Many University Gives Degree)
  • College- Not Attend
  • Religion- Hinduism
  • Caste- Marathi
  • Foodie Type- Non-Vegetarian
  • Boyfriend\Affairs – Bhupen Hazarika(lyricist)
  • Marital Status – Unmarried
  • Hobbies- Watching Cricket, Cooking Food, Riding Bicycle
  • Net Worth- 50 Crore

लता मंगेशकर जी के बारे में पूछे गए कुछ महत्वपूर्ण सवाल ? (FAQ)(Lata Mangeshkar Biography In Hindi)

  • Question-Are LATA MANGESHKAR and ASHA BHOSLE SISTER?
  • Answer- Yes, Both are Sister.
  • Question-Is  LATA MANGESHKAR married?
  • Answer-No, She is Unmarried.
  • Question-What caste of LATA MANGESHKAR ?
  • Answer- Marathi
  • Question-Lata LATA MANGESHKAR Awards by Indian Government?
  • Answer- Bharat Ratna,Padma Vibhushan,Padma Bhushan ,Dada Saheb Phalke Award
  • Question- What is Relation of LATA MANGESHKAR and SHARDDHA KAPOOR?
  • Answer- She is the Great-Niece of LATA MANGESHKAR.
  • Question- How Old LATA MANGESHKAR is Now?
  • Answer- She Is 91 Years Old Now.
  • Question- LATA MANGESHKAR is also known as ?
  • Answer- The Nightingle of Bollywood , Didi and Swar Kokila
  • Question-Which Song Where All her 3 Sister Sing In tha song?
  • Answer- Mann Kyon Behka Ri Behka
  • Question- LATA MANGESHKAR is alive?
  • Answer- Yes Yes Yes

आशा करते है की आपको ये पोस्ट पसंद आया हो और अगर आया है तो कृपया हमे एक कमेंट जरूर करे और अगर कुछ कमी रह गयी हो तो आप हमे बताये क्युकी आपका एक कमेंट हमारे लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है | थैंक्स Lata Mangeshkar Biography In Hindi पढ़ने के लिए


और भी कई पोस्ट पढ़े–  Varun Dhawan Biography In Hindi (Click Here)

Anupjha

hello everyone i'm Anup i start my new career as blogger in 2020 i hope that you'll like my blog post. i want to say that i'll try to my best to get more information about my posts. thanks

Leave a Reply