OYO CEO Ritesh Agarwal Biography in hindi

OYO CEO Ritesh Agarwal Biography in hindi

OYO CEO Ritesh Agarwal Biography

वैसे तो भारत में कई एंट्रेप्रेनुएर है | पर इन दिनों जिस नाम की चर्चा सबसे ज्यादा है वो है OYO रूम्स के CEO Mr. रितेश अग्रवाल | वह दुनिया के सबसे छोटे उम्र में बने बिल्लिओनेरे में से एक है | रितेश अभी केवल 26 साल के है और उन्होंहे अपना बिज़नेस आज इंडिया से साथ-साथ चीन, मलेशिया, नेपाल,यूनाइटेड किंगडम, यूनाइटेड अरब एमिरेट्स, सऊदी अरबिया, फिलीपींस, इंडोनेशिया, जापान जैसे देशो में अपना बिज़नेस चला रहे है | वह ना केवल हम जैसे करोड़ो युवाओ को Inspire कर रहे है बल्कि ये भी बता  रहे है की उम्र और सक्सेस का आपस में कोई रिश्ता नहीं है | आप जहा है,जैसी हालत में है आप वही से शुरू कर  सकते है |

तो चलिए रितेश अग्रवाल के बारे में जानते है –

रितेश का जन्म 16 नवंबर, 1993 में बिस्सम कुट्टक एक गांव रायगड़ा में हुआ था | रितेश को बचपन से ही बिज़नेस और टेक्नोलॉजी में काफी इंटरेस्ट था | वह केवल 8 साल की उम्र से ही कोडिंग किया करते थे | 10वीं पास करने के बात वह iit प्रिपरेशन करने कोटा आ गए | वह आकर उन्होंने अपनी स्टडी स्टार्ट की पर उनको ट्रैवेलिंग और बिज़नेस के क्लासेज लेना काफी अच्छा लगता था | जिस वजह से वह अपना ज्यादातर टाइम ट्रैवेलिंग में बिताया करते थे | उसी दौरान उन्हें कई सरे होटल्स में रुकना होता था | कई बार वह जिस होटल में रुकते वहा की room सर्विसेज अच्छी नहीं हुआ करती थी | और कई बार जहा रूम सर्विसेज अच्छी होती वहा उस रूम का किराया काफी ज्यादा होता था | जिस वजह से रितेश को एक प्रॉब्लम मिली और उन्होंने उसे solve करने का सोचा |

फिर उसके बाद उन्होंने airbnb कंपनी जो की इसी मॉडल पे लोगो को रूम प्रोवाइड करती थी | उसके बारे में पढ़ा और 2012 उन्होंने ऑरवेल स्ट्रेस(ovarel  stays) नाम से अपना पहला स्टार्ट-उप किया | उनके ये मॉडल लोगो को काफी सस्ते रूम प्रोवाइड करता था | जिसे शुरआती दिनों में तो कामयाबी मिली जिसमे की कई अन्य इन्वेस्टर्स ने इन्वेस्ट  पर यह कंपनी अच्छी रूम सर्विस देने में नाकाम रही और इनका ये स्टार्ट-उप जल्द ही बंद हो गया | पर रितेश ने हार नहीं मानी और आगे अपनी मिस्टेक्स पे ध्यान दिया | उसके बाद उन्होंने कई कंपनी की रिसर्च और बिज़नेस स्ट्रेटेजी के बारे में समझा, जिससे की वह अपने बिज़नेस में लागु कर सके और अपने बिज़नेस को बड़ा कर सके |

जैसे की उनका पहला बिज़नेस इसीलिए असफल रहा क्युकी उन्होंने अपने बिज़नेस में रूम्स तो काफी सस्ती लोगो को प्रोवाइड कराया पर सर्विसेज अच्छी प्रोवाइड ना होने के कारण उनका ये बिज़नेस प्लान लोगो को पसंद नहीं आया | इसी से सिख लेकर अब रितेश ने फिर से अपना स्टार्ट -उप किया और इस बार वह पुरे स्ट्रेटेजी के साथ मार्किट में आये | जिससे की लोगो को अच्छे रूम्स मिले और कम पैसे पे अच्छी सर्विसेज भी प्रोवाइड हो | ये नया वाला स्टार्ट-उप लोगो को सही में काफी अच्छा और भरोसेमंद लगा और इसी से रितेश के नए सफर की शुरुआत हुई | पर रितेश एक फ्यूचर को देखने वाले इंसान थे | उन्हें ये पता था की आने वाला समय इंटरनेट का होगा जिसकी मदद से लोग अब हर काम घर से ही करेंगे | इसी को ध्यान में रखते हुए उन्होंने एक mobile App जिसका नाम oyo यानि on your own था | आपको  इसका हिंदी मतलब भी बताते है इसका हिंदी मतलब होता है आपके अपने कमरे |

रितेश की इस सक्सेस का राज ये है की उन्होंने लोगो की वो प्रॉब्लम को solve किया  जिसे लोग पहले बहुत फेस किया करते थे | रितेश इतने सिंपल रहते है की लोग उनकी बात और उनके बिज़नेस आइडियाज और इम्प्रूवमेंट को काफी पसंद करते है | आज रितेश एक बिल्लिओनेरे है | हम भगवान् से आशा करते है की वह अपने जीवन में इसी तरह आगे बड़े और जो नए युवा है उनको वो inspire करे |

रितेश के बारे में कुछ और भी – 

  • रितेश अपने शुरआती दिनों सिम बेचा करते थे |
  • 28 प्रतिशत लोग शहरों में आने के बाद ओयो रूम्स बुक करते हैं। इसके उपयोगकर्ताओं की लगभग एक तिहाई – भारत के रूढ़िवादी रूप से रूढ़िवादी यात्रियों के लिए अपेक्षा से बहुत अधिक है।
  • 36 प्रतिशत कारोबारी यात्री हैं। उस उच्च संख्या को अनुभव की एकरूपता के साथ करना पड़ सकता है। अन्य बातों के अलावा, ओयो वाईफाई का वादा करता है और बिस्तर और बाथरूम जैसी बुनियादी बातों के लिए गुणवत्ता का एक बुनियादी मानक है।
  • अधिकांश जोड़ों ने ओयो के साथ जयपुर के रोमांटिक शहर की यात्रा की
  • रितेश अग्रवाल ने ओडिशा के सेंट जॉन्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल से 12th किया और कॉलेज के लिए 2011 में दिल्ली चले गए।
  • ओयो रूम्स की शुरुआत पूरे भारत में बजट के अनुकूल बिस्तर और नाश्ते पर ध्यान केंद्रित करने के साथ की गई थी।
  • जब आप ओयो रूम बुक करते हैं, तो आपको हमेशा होटल का नाम मिलेगा, लेकिन कमरा नंबर नहीं।
  • करीबन हर 30 सेकंड में एक oyo रूम बुक होता है |

जो भी हो जब आपको सोचना ही है तो बड़ा सोचो – हमारे oyo के ceo भी यही कहते है-

और भी पोस्ट पढ़े यहाँ क्लिक करे –

Anupjha

hello everyone i'm Anup i start my new career as blogger in 2020 i hope that you'll like my blog post. i want to say that i'll try to my best to get more information about my posts. thanks

This Post Has 2 Comments

  1. hindipulse

    Can say for sure, lots of newbies will find this very useful

    Damn, this is a huge resource, thanks for sharing this post

Leave a Reply