पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुख़र्जी की जीवनी और एक कहानी | Former Indian President Shri Pranab Mukherjee Biography

पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुख़र्जी की जीवनी और एक कहानी | Former Indian President Shri Pranab Mukherjee Biography

Shri Pranab Mukherjee Biography in Hindi-

हेलो दोस्तों ! वाकई में ये साल काफी बुरा गुजर रहा है हम सभी के लिए | जहा आज हमारे भारत में  कोरोना से सभी परेशान है तो वही इस कोरोना काल में हमने बहुत से रत्नो को खो दिया | और अभी हाल भी हमने भारत रत्न से सम्मानित और भारत के पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब दा मुख़र्जी को भी खो दिया | आज भले ही प्रणब दा हमारे बीच ना रहे हो , पर वो हमारे दिलो में हमेशा जीवित रहेंगे | उन्ही की याद में आज का ये आर्टिकल हम उनको और उनके चाहने वालो को समर्पित करना चाहेंगे | जहा हम प्रणब दा के जीवन के  बारे में जानेगें साथ ही उनके  बचपन की कहानी भी हम जानेगें | भारत को दिए उनके Contribution को भी हम जानेगे | तथा उनके पोलिटिकल करियर के बारे में भी जानेगे | तो बहुत कुछ है आज के इस आर्टिकल में , इसीलिए अब ज्यादा देरी करना उचित नहीं होगा जल्दी से शुरू करते है  Shri Pranab Mukherjee Biography In Hindi को |

शुरआती जीवन और परिवार (Starting Life and Family)

भारत के पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुख़र्जी का जन्म 11 दिसंबर 1935 को पश्चिम बंगाल के वीरभुम जिले के शहर किरनाहर से सटे गांव मिराती में हुआ | वह एक ब्राह्मण परिवार में जन्मे अपने माता-पिता के तीसरे एवं घर में सबसे छोटे बालक थे | उनके पिताजी का नाम कामदा किंकर मुख़र्जी था , जोकि एक स्वतंत्रता सेनानी हुआ  करते थे और उन्होंने कांग्रेस पार्टी में रहते हुये राजनीती के जरिये लोगो की मदद भी की | जहा उनके  पिताजी एक राजनेता थे तो वही उनकी माताजी राजलक्ष्मी मुख़र्जी एक ग्रहणी और सोशल वर्कर हुआ करती थी | प्रणब दा अपने घर में सबसे छोटे थे जिसके चलते उनको सबका प्यार खूब मिलता , उनके एक बड़े भाई और उनकी एक बड़ी बहन भी है | उनके बड़े भाई का नाम पियूष मुख़र्जी है , जोकि एक रिटायर हैडर मास्टर थे | साथ ही उनकी एक बड़ी बहन जिनका की नाम अन्नपूर्णा मुख़र्जी है , जोकि एक पारिवारिक महिला रही है |

प्रणब मुख़र्जी के बचपन का एक किस्सा (Childhood Story about Pranab Mukherjee)

ये किस्सा वाकई में काफी दिलचस्प है , और शायद आपको इस किस्से के बाद ये मालूम हो जाए की प्रणब दा बचपन से ही काफी ज्यादा होशियार हुआ करते थे | किस्सा कुछ इस प्रकार का है की जब प्रणब दा महज 8 साल के ही थे तो उनके घर पर कुछ अंग्रेजी हुकूमत के सिपाही आये , जोकि उनके घर का सारा सामान जप्त करना चाहते थे | क्यों  जप्त करना चाहते थे ? इसीलिए क्युकी प्रणब दा के पिताजी एक स्वतंत्रता सेनानी हुआ करते थे , जिसके कारण अंग्रेज उन्हें कई बार जेल में बंद कर देते थे और उनके परिवार को भी खूब सताया करते थे | इसी वजह से  जब अंग्रेज प्रणब दा के पिताजी से काफी परेशान हो गये तो उन्होंने उनके घर का  सारा सामान जप्त करने का सोचा , जिसका पता उनके परिवार को पहले से ही चल चूका था | तो इसी कारण उन्होंने अपने घर का सारा सामान और अपने घर की गाय को भी अपने पड़ोसयो के घर में छिपा दिया | और फिर जब उनके घर अंग्रेजो के सिपाही आये तो उन्होंने सब लोगो से पूछताझ की लेकिन किसी ने भी कुछ नहीं बोला |  लेकिन जब सिपाहियों ने प्रणब दा से ये पूछा की , बताओ तुम्हारे घर की गाय कहा गई , तो इसका जबाब प्रणब दा ने ये दिया की , गाय तो हम खा गये | क्या , पर तुम तो हिन्दू हो ? अरे ! भाईसाहब वो हमारे पिताजी जेल में थे तो घर में पैसे नहीं थे  जिसके चलते हमने गाय बेच दी और अपना पेट भरा | इस जबाब को सुनकर वो सपही भी मुस्कुराता हुआ वहा से चला गया |

Arun Jaitley Biography (Click Here)

पढाई के मामले में कैसे थे प्रणब दा ? (Education)

प्रणब दा को अपने जीवन की शुरआत से ही पढ़ने-लिखने में काफी रूचि रही , उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा  किरनाहर हाई स्कूल से शुरू की | जहा से उन्होंने अपनी 10वीं और 12वीं क्लास को पास किया और फिर अपने आगे की पढाई के लिए कलकत्ता के विश्व प्रसिद्ध कॉलेज सूरी विद्यासागर कॉलेज में अपना एडमिशन कराया , जोकि यूनिवर्सिटी ऑफ़ कोलकाता के अंतर्गत आती है | यहाँ उन्होंने MA In Political Science and History की डिग्री ली और साथ ही उन्होंने आगे चलकर LL.B की डिग्री भी हासिल की |

Amit Shah Biography (Click Here)

पॉलिटिक्स में कैसे आये प्रणब दा और कौन लाया उन्हें ?

प्रणब दा को आज पूरा देश अपनी-अपनी क्षद्धांजलि अर्पित कर रहा है | क्युकी उन्होंने भारत की राजनीती में हमेशा सबसे लिए “पितामाह” का किरदार निभाया लेकिन क्या आपको ये पता है की आखिर इतना पढ़ने के बाद भी वह राजनीती में कैसे आये ? तो इसका जबाब है की प्रणब दा  को हमेशा दुसरो की मदद एवं सामाजिक कल्याण कार्य करने में रूचि रहती थी | क्युकी ये सब उन्होंने अपने पिताजी को करते देखा था | और उनके पिताजी भी राजनीती से हमेशा जुड़े रहे , लेकिन प्रणब दा को राजनीती में आना चाहिए या नहीं इस फैसले को लेने में जिसने उनकी मदद की और उनको राजनीती में लाया वो थी भारत की पूर्व प्रधानमन्त्री श्रीमती इंदिरा गांधी  जिन्होंने ही उनको राजनीती में आने के प्रोत्साहित किया | और ऐसे ही वर्ष 1969 में प्रणब दा कॉग्रेस पार्टी में शामिल हो गये | और भारत देश की राजनीती में अपना  पहला कदम रखा |

Narendra Modi Biography (Click Here)

प्रणब मुख़र्जी का पूरा पोलिटिकल करियर ?

उनके पोलिटिकल करियर की शुरआत वर्ष 1969 में होने बाद ही उनको सबसे पहले तो भारत के राजसभा के लिए चुना गया और फिर वर्ष 1973 में प्रणब मुखर्जी को केंद्रीय मंत्री का पद भी मिला | जहा उन्होंने इंदिरा जी की सरकार में उद्योग मंत्रालय को संभाला और फिर आगे चलकर उन्होंने 1982 से 1984 तक में  इंदिरा जी की सरकार में वित्त मंत्री का पद भी संभाला जहा उन्होंने बहुत ही अच्छे तरीके से भारत के वित्त मंत्रालय को संभाला , जिसकी तारीफ हर किसी ने की | और फिर  उनके और राजीव गांधी के बीच काफी विवाद भी हुआ , लेकिन बाद में सब ठीक हो गया | और फिर जैसे ही कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी जी बनी वैसे ही प्रणब मुख़र्जी  को उन्होंने अपने सबसे करीबी खास नेताओ में से एक का दर्जा दिया |

 जिसके बाद सोनिया गांधी ने उन्हें  साल 2007 से 2012 तक उनकी सरकार  में वित्त मंत्रालय का पद सँभालने का मौका दिया जिसके बाद आगे के कुछ में पुरे विश्व में मंदी छाई हुई लेकिन भारत में इसका ज्यादा कोई असर   नहीं हुआ | जिसके चलते ही प्रणब मुख़र्जी को वर्ष 2010 में ” Best Finance of The Year of Asia ” के अवार्ड से भी सम्मानित भी किया |  उसके बाद साल 2012 से लेकर  साल 2017 तक वह भारत के राष्ट्रपति भी बने | और फिर उनके योगदान को देखते हुये भारत सरकार ने उन्हें साल 2019 में भारत रत्न जैसे सबसे बड़े अवार्ड से सम्मानित भी किया | और साथ ही आपको बता दे की प्रणब दा को साल 2008 में पद्मा भिभूषण और साल 2001 में पद्मा भूषण से भी सम्मानित किया जा चूका है |

प्रणब मुख़र्जी पर्सनल लाइफ (Pranab Mukherjee Personal Life)

अगर हम बात उनके पर्सनल लाइफ की करे तो प्रणब मुख़र्जी जिन्हे की लोग प्रेम से प्रणब दा भी कहते है | इन्होने 13 जुलाई 1957 को अपनी जीवनसंगनी श्रीमती सुव्रा  मुख़र्जी के साथ शादी की जिनसे की इन्हे तीन बच्चे हुए , उनके नाम कुछ इस प्रकार है अभिजीत मुखर्जी,इंद्रजीत मुख़र्जी और शर्मिष्ठा मुख़र्जी है | वैसे तो प्रणब दा की धर्मपत्नी का देहांत साल 2015 में ही हो गया था | लेकिन उनके पुरे 55  के रिश्ते को बयान करते हुए उनकी धर्मपत्नी जी ने एक इंटरव्यू में ये कहा था की  वह बेहद ही शर्मीले एवं कम बोलने वाले शक्श है लेकिन उनके और हमारे रिश्ते में आज तक एक भी बार झगड़ा नहीं हुआ और हम ख़ुशी ख़ुशी साथ रहे |

प्रणब मुख़र्जी की मृत्यु कैसे हुई ? (How Pranab Mukherjee Died)

पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे प्रणब मुख़र्जी ने अपनी आखिरी सांसे 31 अगस्त 2020 की शाम को लिया | उनकी मृत्यु की जानकारी उनके बड़े पुत्र अभिजीत ने ट्विटर के जरिये सभी को बताया ,जिसके बाद से ही उन्हें न केवल देश बल्कि विदेश से भी  क्षद्धांजलि अर्पित कर रहे है | दरअशल कुछ दिन पहले ही वो कोरोना पॉजिटिव पाए गए जिसके बाद उन्होंने दिल्ली के आर्मी अस्पताल में अपनी भर्ती कराइ और फिर इलाज के दौरान ही उनकी मृत्यु हो गई | हम सभी भारतवाशी भगवान् से यही उम्मीद करते है की भगवान् उन्हें अपनी शरण में जगह दे और उनकी आत्मा को शांति दे |

Yogi Adityanath Biography (Click Here)

तो चलिए जल्दी से जान लेते है Pranab Mukherjee के बारे में (Short Biography)

  • Full Name\Real Name-Pranab Kumar Mukherjee
  • Nickname-Poltu,Pranab Da
  • Profession- Teacher,journalist,politician,author,social worker
  • Age – 84(at present)
  • Birthplace- Mirati,Bengal
  • Nationality- Indian
  • Zodiac – Sagittarius
  • Height- 5 Feet
  • Date of Birth- 11 December, 1935
  • School- Kirnahar High School
  • Qualification- MA In Political Science and History
  • College- Suri Vidyasagar College(University of Calcutta)
  • Religion- Hinduism
  • Caste- Bengali Brahim
  • Foodie Type- Non-Vegetarian
  • Wife- Savra Mukherjee(Died in 2015)
  • Marital Status – Married
  • Hobbies-Long Walks,Writing,Reading,Music, Gardening
  • Net Worth- 3 Crore
उम्मीद करते है की आपको हमारा ये  Pranab Mukherjee Biography वाला पोस्ट पसंद आया हो | और अगर आया है तो कृपया इस पोस्ट को अपने दोस्तों और अपने चाहने वालो में शेयर करे | साथ ही एक प्यारा सा कमेंट भी जरूर करे | धन्यवाद आपका Pranab Mukherjee Biography  की इस पोस्ट को पढ़ने के लिए |

 

Virat Kohli Biography (Click Here)

 

Anupjha

hello everyone i'm Anup i start my new career as blogger in 2020 i hope that you'll like my blog post. i want to say that i'll try to my best to get more information about my posts. thanks

Leave a Reply